RRR:- बाहुबली के रिकॉर्ड को तोड़ने आ रही है|

“RRR” एक हिंदी भाषा की भारतीय एक्शन ड्रामा फिल्म है, जो साउथ भारतीय फिल्म निर्माता और निर्देशक सी. सी. राजमोउली (S. S. Rajamouli) द्वारा निर्मित की गई है। यह एक एक्शन-पैक्ड फिल्म है जिसमें स्टार कास्ट में नामी अभिनेता जैसे कि नितिन (N. T. Rama Rao Jr.), राम चरण (Ram Charan), अलिया भट्ट (Alia Bhatt), अजय देवगन (Ajay Devgn) और ओलिवर जेन्सन (Olivia Morris) शामिल हैं।

लंबी और महंगी फिल्म

“RRR” एक बड़ी बजट फिल्म है जिसे भारतीय सिनेमा की एक महत्वपूर्ण उत्सव की तरह देखा जा रहा है और लोग इसे उत्सव और जोश के साथ इंतजार कर रहे हैं। यह फिल्म पूरे 3 घंटे की होगी और इस फिल्म की बजट 400 करोड़ बताई गई है। फिल्म के नाम RRR का मतलब है Rise Roar Revolt जिसका मतलब हुआ उदय , दहाड़, विद्रोह।

इन दोनो पर आधारित है RRR

“RRR” कहानी भविष्य में होने वाली एक महत्वपूर्ण घटना के चारों ओर घूमती है जब दक्षिण भारतीय राज्यों आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के स्वतंत्रता संग्रामी हमारे नेता को साक्षात्कार करते हैं।

RRR
-Advertisement-

“RRR” की कहानी 1920 के भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के समय पर आधारित है, और यह एक कालक्रम में दिखाती है कि कैसे आन्ध्र प्रदेश के एक स्वतंत्रता सेनानी, कमराड रामाराजु (रम चरण) और कमराड बिम्बीसारी (टारका) की कहानी भारतीय आजादी के लिए उनके योगदान को दिखाती है।

यह अल्लूरी सीताराम राजू और कोमाराम भीम पर आधारित फिल्म है जो एक फ्रीडम फाइटर थे।

अल्लूरी सीताराम राजू का जन्म 4 जुलाई 1697 पंद्रंगी मद्रास में हुआ था जो अब आंध्र प्रदेश में है। इन्होंने 1922 में ब्रिटिश सरकार के खिलाफ सैकड़ों क्रांतिकारी के साथ मिलकर ब्रिटिश पुलिस के ठिकानों पर लूट की और उनके सभी हथियार गोले बारूद लूट लिया करते थे।

Read also  Robert Downey Jr: Iron Man क्या आप जानते है आयरन मैन को

ब्रिटिश पुलिस जब भी उनको पकड़ने जाते थे ,तो वह उन्हें जंगलों में मार देते थे उसके बाद ब्रिटिश पुलिस के काफी मेहनत के बाद उन्हें चिंतपल्ली के जंगल में मई 1924 को ब्रिटिश पुलिस ने उन्हें जंगल में चारो तरफ से घेर लिया और क्रांतिकारियों को कड़ा संदेश देने के लिए उन्हें पास के गांव में ले जाया गया जहां उन्हें एक पेड़ में बांधकर सभी ग्रामीणों के सामने गोली मार दी गई।

इन दोनो पर आधारित है RRR

कोमाराम भीम का जन्म तेलंगाना में आदिलाबाद जिले के छोटे से गांव शंख पल्ली में हुआ था इनका बचपन बहुत ही दिक्कतों से भरी बीती है जैसे-जैसे वह बड़े हुए उनसे अपने लोगों की दिक्कत नहीं देखी जाती थी बचपन में उन्होंने पुलिस और व्यापारियों, राजघराने के जमींदारों के शोषण और मारपीट देखे थे उनके गांव में जो भी खेती होती थी उसके फसल निजाम के लोग उनसे छीन कर ले जाते थे।

जिसका खिलाफ कोमाराम भीम के पिता ने किया तो उन्हें जान से मार दिया गया। जैसे-जैसे कोमाराम भीम बड़े हुए निजाम के लिए मुसीबतों का पहाड़ बनते चले गए। इसको देखते हुए कोमाराम भीम से छुटकारा पाने के लिए निजाम ने अपने सैनिकों को युद्ध के लिए भेजा जिसमे निजाम के सैनिकों से लड़ते-लड़ते सितंबर 1940 में कोमाराम भीम शहीद हो गए। यह फिल्म 25 मार्च 2022 को रिलीज होगी।

Iron Man 4: Tony Stark’s Resurrection and New Adventures

Leave a Comment